कौन हूँ मैं !

किसी के लिए मैं लक्ष्मी हूँ, किसी के कंधों पर बोझ हूँ मैं। भाई ही मेरी रक्षा करेगा, ऐसे त्योहारो का हिस्सा हूँ मैं। नाज़ुक हूँ और कमज़ोर भी, ये मानने के लिए मजबूर हूँ मैं। घर के कामों से नापा जाता है जिसका हुनर, उन बुज़ुर्गो की सोच हूँ मैं। धीमी आवाज़, रंग रूप […]

Read More कौन हूँ मैं !